रागु बिलावल – गुरू गोबिन्द सिंह जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Gobind Singh Ji 

रागु बिलावल – गुरू गोबिन्द सिंह जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Gobind Singh Ji

 

सो किम मानस रूप कहाए ॥
सि्ध समाध साध कर हारे कयौहूं न देखन पाए ॥१॥ रहाउ ॥
नारद बिआस परासर ध्रुअ से धयावत धयान लगाए ॥
बेद पुरान हार हठ छाडिओ तदपि धयान न आए ॥१॥
दानव देव पिसाच प्रेत ते नेतहि नेति कहाए ॥
सूछम ते सूछम कर चीने बि्रधन बि्रध बताए ॥२॥
भूम अकाश पताल सभौ सजि एक अनेक सदाए ॥
सो नर काल फास ते बाचे जो हरि शरण सिधाए ॥३॥१॥

Leave a Reply