ये जो फैला हुआ ज़माना है-ग़ज़लें -निदा फ़ाज़ली-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nida Fazli

ये जो फैला हुआ ज़माना है-ग़ज़लें -निदा फ़ाज़ली-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nida Fazli

ये जो फैला हुआ ज़माना है
इस का रक़्बा ग़रीब-ख़ाना है

कोई मंज़र सदा नहीं रहता
हर तअ’ल्लुक़ मुसाफ़िराना है

देस परदेस क्या परिंदों का
आब-ओ-दाना ही आशियाना है

कैसी मस्जिद कहाँ का बुत-ख़ाना
हर जगह उस का आस्ताना है

इश्क़ की उम्र कम ही होती है
बाक़ी जो कुछ है दोस्ताना है

Leave a Reply