ये जफ़ा-ए-ग़म का चारा, वो नजाते-दिल का आलम-दस्ते-तहे-संग -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

ये जफ़ा-ए-ग़म का चारा, वो नजाते-दिल का आलम-दस्ते-तहे-संग -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

ये जफ़ा-ए-ग़म का चारा, वो नजाते-दिल का आलम
तेर हुस्न दस्त-ए-ईसा, तेरी याद रू-ए-मरीयम

दिल-ओ-जां फ़िदा-ए-राहें, कभी आ के देख हमदम
सरे-कू-ए-दिलफ़िगारां, शबे आरज़ू का आलम

तेरी दीद के सिवा है, तेरे शौक में बहारां
वो ज़मीं जहां गिरी है, तेरी गेसूओं की शबनम

ये अजब क़यामतें हैं, तेरी रहगुज़र से गुज़रा
न हुआ कि मर मिटे हम, न हुआ कि जी उठे हम

लो सुनी गई हमारी, युं फिरे हैं दिन कि फिर से
वही गोशा-ए-क़फ़स है, वही फ़स्ले-गुल का आलम

लाहौर जेल फ़रवरी, १९५९

Leave a Reply