ये अमीरों से हमारी फ़ैसलाकुन जंग थी – समय से मुठभेड़-अदम गोंडवी- Adam Gondvi-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

ये अमीरों से हमारी फ़ैसलाकुन जंग थी – समय से मुठभेड़-अदम गोंडवी- Adam Gondvi-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

ये अमीरों से हमारी फ़ैसलाकुन जंग थी ।
फिर कहाँ से बीच में मस्जिद औ’ मंदर आ गए ।

जिनके चेह्रे पर लिखी थी जेल की ऊँची फ़सील,
रामनामी ओढ़कर संसद के अन्दर आ गए ।

देखना, सुनना व सच कहना इन्हें भाता नहीं,
कुर्सियों पर अब वही बापू के बंदर आ गए ।

कल तलक जो हाशिए पर भी न आते थे नज़र,
आजकल बाज़ार में उनके कलेण्डर आ गए ।

Leave a Reply