यायावर से-कविता-नरेश मेहता-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Naresh Mehta 

यायावर से-कविता-नरेश मेहता-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Naresh Mehta

 

ले गए तुम कई बार साथ में
हमें अपनी यात्राओं पर
चित्रकूट, वृंदावन, सौराष्ट्री सागर-तट
या कहीं और भी,
पर यह कौन-सी यात्रा है
यायावर!
जहाँ तुमने
अकेले ही असंग जाने का निर्णय लिया,
और चल भी दिए?

 

Leave a Reply