मैं तैनूं प्यार करदा हां-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

मैं तैनूं प्यार करदा हां-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

मैं गोडियां भार बैठ ग्या
मैं धरती वल्ल तक्कदा हां
मैं कीड़े-पतंग्यां वल्ल वेखदा हां
मैं उहनां निक्कियां टहणियां वल्ल वेखदा हां
जेहनां ‘ते नीले फुल्ल खिड़े होए ने
मेरी प्यारी ।
तूं बसंत रुत्त विच धरती वरगी एं
ते मैं तेरे वल्ल वेख रिहा हां ।

मैं पिट्ठ परने प्या हां
ते असमान वल्ल तक्कदा हां
मैं रुक्ख दियां टहणियां वल्ल वेखदा हां
मैं उड्डदे सारसां नूं वेखदा हां
मैं खुल्हियां अक्खां नाल सुपना वेखदा हां
तूं बसंत रुत्त विच असमान वरगी एं
मैं तैनूं तक्कदा हां ।

रात नूं मैं खेत विच अग्ग बालदा हां
मैं अग्ग नूं छुंहदा हां
पानी नूं छुंहदा हां
कप्पड़े नूं छुंहदा हां
चांदी नूं छुंहदा हां
तूं सितारियां दे हेठ बलदी अग्ग वरगी एं
मैं तैनूं छुंहदा हां ।

मैं लोकां विचकार हां
मैं लोकां नूं प्यार करदा हां
मैं हरकत नूं प्यारदा हां
मैं ख़्याल नूं प्यारदा हां
मैं संघरश नूं प्यार करदा हां
तूं मेरे संघरश विच इक मनुक्ख हैं
मैं तैनूं प्यार करदा हां

(1947)

Leave a Reply