मैं जिलाए और जगाए ही रहूँगा-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

मैं जिलाए और जगाए ही रहूँगा-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

मैं
जिलाए
औ’ जगाए ही रहूँगा
देह का दुर्लभ दिया।
चेतना से
ज्योति की जीवंतता से
तम यही तो हर रहा है-
आंतरिक
आलोक से
भव भर रहा है
सत्यदर्शी कर रहा है।

रचनाकाल: १८-०३-१९९१

 

Leave a Reply