मैंने अदब से हाथ उठाया सलाम को – समय से मुठभेड़-अदम गोंडवी- Adam Gondvi-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

मैंने अदब से हाथ उठाया सलाम को – समय से मुठभेड़-अदम गोंडवी- Adam Gondvi-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

मैंने अदब से हाथ उठाया सलाम को
समझा उन्होंने इससे है खतरा निजाम को

चोरी न करें झूठ न बोलें तो क्या करें
चूल्हे पे क्या उसूल पकाएंगे शाम को

Leave a Reply