मेरे बाद -राहत इन्दौरी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rahat Indori Part 1

मेरे बाद -राहत इन्दौरी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rahat Indori Part 1

मेरे अश्कों ने कई आँखों में जल-थल कर दिया

मेरे अश्कों ने कई आँखों में जल-थल कर दिया
एक पागल ने बहुत लोगों को पागल कर दिया

अपनी पलकों पर सजा कर मेरे आँसू आप ने
रास्ते की धूल को आँखों का काजल कर दिया

मैं ने दिल दे कर उसे की थी वफ़ा की इब्तिदा
उस ने धोका दे के ये क़िस्सा मुकम्मल कर दिया

ये हवाएँ कब निगाहें फेर लें किस को ख़बर
शोहरतों का तख़्त जब टूटा तो पैदल कर दिया

देवताओं और ख़ुदाओं की लगाई आग ने
देखते ही देखते बस्ती को जंगल कर दिया

ज़ख़्म की सूरत नज़र आते हैं चेहरों के नुक़ूश
हम ने आईनों को तहज़ीबों का मक़्तल कर दिया

शहर में चर्चा है आख़िर ऐसी लड़की कौन है
जिस ने अच्छे-ख़ासे इक शायर को पागल कर दिया

दोस्त है तो मेरा कहा भी मान

दोस्त है तो मेरा कहा भी मान
मुझसे शिकवा भी कर, बुरा भी मान

दिल को सबसे बड़ा हरीफ़’ समझ
और इसी संग को खुदा भी मान

मैं कभी सच भी बोल देता हूँ
गाहे गाहे, मेरा कहा भी मान

याद कर, देवताओं के अवतार
हम फ़कीरों का सिलसिला भी मान

सुलगते सारे छप्पर लग रहे है

सुलगते सारे छप्पर लग रहे है
कवेलू मकबरों पर लग रहे है

बबूल आँगन मैं बोया जा रहा है
पहाड़ों पर सनोबर लग रहे है

मगर अन्दर कोई सहरा छुपा है
बजाहिर हम समंदर लग रहे हैं

जहालत को सनद बख्शी गयी है
सितारे पत्थरों पर लग रहे हैं

बहुत रंगीन तबियत हैं परिंदे
दरख्तों पर कैलेंडर लग रहे है

उकाब उन मैं कोई होगा तो होगा
हमें तो सब कबूतर लग रहे हैं

यहाँ दरिया पे पाबंदी नहीं है
मगर पहरे लबों पर लग रहे हैं

खुदा से काम कोई आ पड़ा है
बहुत मस्जिद के चक्कर लग रहे है

मेरे अश्कों ने कई आँखों में जल-थल कर दिया

मेरे अश्कों ने कई आँखों में जल-थल कर दिया
एक पागल ने बहुत लोगों को पागल कर दिया

अपनी पलकों पर सजा कर मेरे आँसू आप ने
रास्ते की धूल को आँखों का काजल कर दिया

मैं ने दिल दे कर उसे की थी वफ़ा की इब्तिदा
उस ने धोका दे के ये क़िस्सा मुकम्मल कर दिया

ये हवाएँ कब निगाहें फेर लें किस को ख़बर
शोहरतों का तख़्त जब टूटा तो पैदल कर दिया

देवताओं और ख़ुदाओं की लगाई आग ने
देखते ही देखते बस्ती को जंगल कर दिया

ज़ख़्म की सूरत नज़र आते हैं चेहरों के नुक़ूश
हम ने आईनों को तहज़ीबों का मक़्तल कर दिया

शहर में चर्चा है आख़िर ऐसी लड़की कौन है
जिस ने अच्छे-ख़ासे इक शायर को पागल कर दिया

Leave a Reply