मेरी बूढ़ी माँकविता-रामेश्वर नाथ मिश्र ‘अनुरोध’ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rameshwar Nath Mishra Anurodh

मेरी बूढ़ी माँकविता-रामेश्वर नाथ मिश्र ‘अनुरोध’ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rameshwar Nath Mishra Anurodh

 

मेरे घर की शान है मेरी बूढ़ी माँ ।
घर भर की पहचान है मेरी बूढ़ी माँ ।
उसके रहने से हर काम सँवरता है,
दुर्लभतम वरदान है मेरी बूढ़ी माँ ।
घर की इज्जत हरदम ढक कर रखती है,
अति उज्जवल परिधान है मेरी बूढ़ी माँ ।
तोरण जैसी है घर के दरवाजे पर,
मंगलमय अभियान है मेरी बूढ़ी माँ ।
दर्प नहीं, न ढोंग, न व्यर्थ दिखावा है,
विनय भरा अभिमान है मेरी बूढ़ी माँ ।
घर की उन्नति घर का वैभव, घर में स्वर्ग,
घर का सब अरमान है मेरी बूढ़ी माँ ।
शिष्टाचार उसी से हमने सीखा है,
श्रुति का सम्यक ज्ञान है मेरी बूढ़ी माँ ।
वत्सलता की मूर्ति, दया की देवी है,
ताल-मेल-लय-तान है मेरी बूढ़ी माँ ।
जाने क्या-क्या झेल के हमको पाला है,
अनजाना अवदान है मेरी बूढ़ी माँ ।
सबके आंसू अपनी ममता से हारती है,
हम सबकी मुस्कान है मेरी बूढ़ी माँ ।
न जाने वह किस-किस रूप में मुझमे है,
मेरा अनुसन्धान है मेरी बूढ़ी माँ ।
हर उलझन की सुलझन जैसी दिखती है,
शास्त्रों का व्याख्यान है मेरी बूढ़ी माँ ।
मेरा रामेश्वर, काशी, द्वारकापुरी,
राम, कृष्ण भगवान है मेरी बूढ़ी माँ ।
मेरा जीवन सर्जन-अर्जन माँ ही है,
मेरा यश-सम्मान है मेरी बूढ़ी माँ ।

 

Leave a Reply