मेरा पेशा-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

मेरा पेशा-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

जदों मेरे बलदां दे सिंगां ‘ते दिन चढ़दा है
मैं फ़ख़र ते तहम्मल नाल
धरती नूं वाहुन्दा हां
मेरे नंगे पैरां नूं सिल्ल्ही ते निघ्घी धरती
छूंहदी है ।

मेरे पट्ठ्यां ‘चों रौशन चंग्याड़े निकलदे हन
मैं तत्ते लोहे ‘ते दुपहर तीक
सट्टां मारदा हां
ते इस दी लोअ, हर हनेरे नूं
रौशन करदी है ।

पत्त्यां दी धड़कदी हरियावल विचों
मैं बाअद दुपहर जैतून तोड़दा हां
मेरे कपड़्यां, मेरे चेहरे, मेरे सिर
ते मेरियां अक्खां ‘ते चानन ही चानन है ।

मेरे घर हर शाम प्राहुने प्रवेश करदे ने
सभ सुन्दर गीतां लई,
मेरे दर चौपट्ट खुल्ल्हे हुन्दे ने

रात नूं मैं
गोडे गोडे डूंघे समुन्दर विच
आपने जाल लै उतर जांदा हां
मच्छियां ते सितारियां नूं फड़न लई ।

मैं हुन उस सभ कुझ लई
ज़ुंमेवार हो ग्या हां
जो मेरे चुफ़ेरे वापर्दा है
आदमी ते धरती लई
हनेरे ते रौशनी लई
तुसीं वेखदे हो कि मैं सिर तों पैरां तीक
कंम विच खुभ्या प्या हां ।
मेरी प्यारी !
मैनूं आपणियां गल्लां नाल कीली ना रक्ख
मैनूं तेरे नाळ प्यार होई जा रिहै ।

Leave a Reply