मुझे कल मेरा एक साथी मिला-अहमद नदीम क़ासमी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ahmad Nadeem Qasmi,

मुझे कल मेरा एक साथी मिला-अहमद नदीम क़ासमी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ahmad Nadeem Qasmi,

मुझे कल मेरा एक साथी मिला
जिस ने ये राज़ खोला
कि “अब जज्बा-ओ-शौक़ की वहशतों के ज़माने गए”

फिर वो आहिस्ता-आहिस्ता चारों तरफ़ देखता
मुझ से कहने लगा

“अब बिसात-ए-मुहब्बत लपेटो
जहां से भी मिल जाएं दौलत – समटो
ग़र्ज कुछ तो तहज़ीब सीखो”

Leave a Reply