मिट्ठड़ी ऐ डोगरे दी बोल्ली-गीत-डोगरी कविता -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev

मिट्ठड़ी ऐ डोगरे दी बोल्ली-गीत-डोगरी कविता -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev

मिट्ठड़ी ऐ डोगरे दी बोल्ली,
ते खंड मिट्ठे लोक डोगरे।

गल्ल नेईओं सहारदे,
ते बोल नेईओं हारदे,
दिन्दे ने जबान तोल्ली-तोल्ली,
ते खंड मिट्ठे लोक डोगरे।

देवतें-दोआलें गी मक्खनै ने पालदे,
शिवें दे दवार जल मनै-बद्धा ढालदै,
देवीएं न चाड़्हदे न छिल्ली,
ते खंड मिट्ठे लोक डोगरे।

चांदीए दा तोड़ा ते सुन्नै दा बलाकड़ू,
मंडीयै दा मियां मोआ मूंढै दा गै आकड़ू,
दिक्खै दा बन्दूक खोहली-खोहली,
ते खंड मिट्ठे लोक डोगरे।

जोद्धे ते सूरमे विदवान कलाकार न,
जम्मूए दे गले इच फुल्लें दे इह हार न,
चित्तरी दी दिक्खी लै बसोहली,
ते खंड मिट्ठे लोक डोगरे।

(बलाकड़ू=छोटी नत्थ, मूंढै दा गै
आकड़ू=शुरू से ही अकड़ा,
चित्तरी=खास कढाई)

Leave a Reply