माली -गुरू अर्जुन देव जी-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

माली -गुरू अर्जुन देव जी-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

गुरू अर्जुन गुलदसता बणाउन लग्गे,
पहलां आपने बाग़ विच्च जांवदे ने ।
तर्हां-तर्हां दी खिड़ी गुलज़ार सारे,
फुल्ल ओसदे चुन के ल्यांवदे ने ।
सारे हिन्द विच्च उन्हां फिर नज़र मारी,
फुल्ल होर वी बड़े कमाल दिस्से ।
बाग़ां वल्ल जां गहु नाल तक्क्या तां,
बाग़ उन्हां नूं कई बेहाल दिस्से ।

घल्ले गुरां सुनेहे सभ पासे,
कहन्दे इक्क गुलदसता बणावना एं ।
फुल्ल जो वी सुहना ते रस-भिन्नां,
ओहनूं ओसदे विच्च सजावना एं ।
सारे देश विचों माली आण पुज्जे,
फुल्ल जिन्हां दे महकां खिंडा रहे सन ।
आपो आपने फुल्लां दी सभ माली,
गुरां साहमने सिफ़त सुना रहे सन ।

कई बाग़ां विचों सतिगुरू जी ने,
सिक्ख भेज के फुल्ल मंगवा लए ।
फेर प्यार, उमाह दे नाल सारे,
गुरां आपने पास रखवा लए ।
फुल्ल हर इक्क नीझ दे नाल विंहदे,
फिर रंग-सुगंध आकार वेखन ।
भाई गुरदास जी नूं फड़ा दिन्दे,
जिस फुल्ल दा उच्चा म्यार वेखन ।

कांट छांट दी जित्थे कोई लोड़ जापे,
सतिगुरू जी उह वी करी जांदे ।
जिस फुल्ल विच किते कोई कसर लग्गे,
उहनूं इक्क पासे चुक्क धरी जांदे ।
इस तर्हां सतिगुरां ने फुल्ल सारे,
निगाह आपनी विचों लंघा दित्ते ।
भाई गुरदास नूं कह फिर चुने होए,
करीने नाल सभ फुल्ल सजा दित्ते ।

जद पूरा गुलदसता त्यार होया,
सुहने वसतरां हेठ लुका ल्या ।
बाबा बुढ्ढा जी नूं बड़े अदब सेती,
फेर आपने कोल बुला ल्या ।
बड़े प्यार नाल चुक्क के गुलदसता,
फिर विच्च दरबार लिजांवदे ने ।
बाबा बुढ्ढा जी उपरों लाह वसतर,
दीदार संगतां ताईं करांवदे ने ।

संगत वेख गुलदसता निहाल होई,
ख़ुशबू फैल गई नज़रां मख़मूर होईआं ।
इंञ जाप्या जिस तर्हां मनां उत्तों,
सभ कालखां लग्गियां दूर होईआं ।

Leave a Reply