मानी ने जो देखा तिरी तस्वीर का नक़्शा-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

मानी ने जो देखा तिरी तस्वीर का नक़्शा-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

मानी ने जो देखा तिरी तस्वीर का नक़्शा
सब भूल गया अपनी वो तहरीर का नक़्शा

उस अबरू-ए-ख़मदार की सूरत से अयाँ है
ख़ंजर की शबाहत दम-ए-शमशीर का नक़्शा

क्या गर्दिश-ए-अय्याम है ऐ आह-ए-जिगर-सोज़
उल्टा नज़र आया तिरी तासीर का नक़्शा

दिन रात तिरे कूचे में रोवे है हमेशा
आशिक़ के ये है मंसब ओ जागीर का नक़्शा

तदबीर तो कुछ बन नहीं आती है ‘नज़ीर’ आह
अब देखिए क्या होता है तक़दीर का नक़्शा

Leave a Reply