मज़दूर औरतें-नज़्में जाँ निसार अख़्तर-जाँ निसार अख़्तर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaan Nisar Akhtar

मज़दूर औरतें-नज़्में जाँ निसार अख़्तर-जाँ निसार अख़्तर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaan Nisar Akhtar

गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
चेहरों पे ख़ाक धूल के पोंछे हुए निशाँ
तू और रंग-ए-ग़ाज़ा-ओ-गुलगूना-ओ-शहाब
सोचा भी किस के ख़ून की बनती हैं सुर्ख़ियाँ
गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
मैले फटे लिबास हैं महरूम-ए-शास्त-ओ-शू
तू और इत्र ओ अम्बर ओ मुश्क ओ अबीर ओ ऊद
मज़दूर के भी ख़ून की आती है इस में बू
गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
तन ढाँकने को ठीक से कपड़ा नहीं है पास
तू और हरीर ओ अतलस ओ कम-ख़्वाब ओ परनियाँ
चुभता नहीं बदन पे तिरे रेशमी लिबास
गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
चाँदी का कोई गंझ न सोने का कोई तार
तू और हैकल-ए-ज़र ओ आवेज़ा-ए-गुहर
सीने पे कोई दम भी धड़कता है तेरा हार
गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
सदियों से हर निगाह है फ़ाक़ों की रहगुज़र
तू और ज़ियाफ़तों में ब-सद-नाज़ जल्वा-गर
किस के लहू से गर्म है ये मेज़ की बहार
गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
तारीक मक़बरों से मकाँ इन के कम नहीं
तू और ज़ेब-ओ-ज़ीनत-ए-अलवान-ए-ज़र-निगार
क्या तेरे क़स्र-ए-नाज़ की हिलती नहीं ज़मीं
गुलनार देखती है ये मज़दूर औरतें
मेहनत ही उन का साज़ है मेहनत ही उन का राग
तू और शुग़्ल-ए-रामिश-ओ-रक़्स-ओ-रबाब-ओ-रंग
क्या तेरे साज़ में भी दहकती है कोई आग
गुलनार देखती हैं ये मज़दूर औरतें
मेहनत पे अपने पेट से मजबूर औरतें

Leave a Reply