मंदिर दियना बार-कविता-पूर्णिमा वर्मन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Purnima Varman

मंदिर दियना बार-कविता-पूर्णिमा वर्मन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Purnima Varman

मंदिर दियना बार सखी री
मंदिर दियना बार!
बिनु प्रकाश घट घट सूनापन
सूझे कहीं न द्वार!

कौन गहे गलबहियाँ सजनी
कौन बँटाए पीर
कब तक ढोऊँ अधजल घट यह
रह-रह छलके नीर
झंझा अमित अपार सखी री
आँचल ओट सम्हार

चक्रों पर कर्मो के बंधन
स्थिर रहे न धीर
तीन द्वीप और सात समंदर
दुनियाँ बाजीगीर
जर्जर मन पतवार सखी री
भव का आर न पार!

अगम अगोचर प्रिय की नगरी
स्वयम प्रकाशित कर यह गगरी
दिशा-दिशा उत्सव का मंगल
दीपावलि छायी है सगरी
छुटे चैतन्य अनार सखी री
फैला जग उजियार!

Leave a Reply