भगत रविदास नूं शरधांजली-पंजाबी कविता-संत रविदास जी( रैदास जी) पर -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Sant Ravidas Ji Poems

भगत रविदास नूं शरधांजली-पंजाबी कविता-संत रविदास जी( रैदास जी) पर -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Sant Ravidas Ji Poems

चोजां वाल्या गुरू रविदास जीओ,
तैनूं शरधा दे फुल्ल चड़्हाउन लग्गां ।
तेरी याद विच बैठके दो घड़ियां,
इक्क दो प्यार दे हंझू वहाउन लग्गां ।

तेरी सोहनी तसवीर ‘ते नीझ ला के,
दरशन रज्ज के पाउन नूं जिय करदा ।
तेरी दरे-दहलीज़ ‘ते रगड़ मत्था,
मुड़के किसमत बणाउन नूं जिय करदा ।

तेरी रम्बी ने ज़ुलम दी खल्ल लाही,
तेरी सूयी ने दुक्खां दे फट्ट सीते ।
तेरे टांकने ने लायआ अजब टांका,
साकत मोम दे वांगरा लट्ट कीते ।

जेहड़ी गंगा दे दरशन नूं जान लोकीं,
तेरे कोलों उह कौडियां मंगदी सी ।
जिथे लोक मसां मर मर के अप्पड़दे ने,
तेरे पत्थर दे हेठां दी लंघदी सी ।

मैनूं जापदा ए तेरी जोत सदका,
अछूत जातियां दी जोत जगदी ए ।
तेरी जोत ‘चों निकलके लाट तत्ती,
सिधी ज़ुलम दे सीने नूं लग्गदी ए ।

मैनूं जापदा ए ज़ुलम दी अग्ग अन्दर,
अंमृत सी तां तेरी तासीर दा सी ।
झगड़ा नहीं सी छूत-अछूत वाला,
सारा झगड़ा गरीब अमीर दा सी ।

मेरे दात्या तेरे ही देस अन्दर,
तेरे बन्द्यां दा कौडी मुल्ल नहीयों ।
पैसे वालड़े दे हत्थीं रब्ब विक्या,
जीवन बन्दे दा पैसे दे तुल्ल नहीयों ।

सीना जोरी ते चोर बलैकियां दा,
लोहा चल्लदा एस जहान अन्दर ।
दसां नहुंआं दी किरत दे काम्यां दा,
कौडी मुल्ल नहीं हिन्दुसतान अन्दर ।

एथे धरमां ते मज़बां ने पाए पाड़े,
इहनां बन्दे नूं बन्दे तों वंड्या ए ।
जे तूं नीचां ते ऊचां दा मेल कीता,
इहनां धरमां ने एस नूं खंड्या ए ।

तैनूं तरस मज़दूर मज़लूम दा सी,
नाल नीव्यां तेरियां यारियां सी ।
गोहड़े रूं दे डुब्बदे पंडतां दे,
तेरी पथरी वी लाउंदी तारियां सी ।

अज्ज फेर तूं आपनी रूह घल्लदे,
नशा पैसे दी ताकत दा मुक्क जावे ।
ऊच नीच दा रेड़का मुक्क जावे,
पानी दुक्खां ते ज़ुलमां दा सुक्क जावे ।

(संत राम उदासी)

This Post Has One Comment

Leave a Reply