बौरे बन बागन विहंग विचरत बौरे-गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gayaprasad Shukla Sanehi

बौरे बन बागन विहंग विचरत बौरे-गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gayaprasad Shukla Sanehi

बौरे बन बागन विहंग विचरत बौरे,
बौरी सी भ्रमर भीर, भ्रमत लखाई है ।
वैरी वर मेरी घर आयो न बसन्त हू में,
बौरी कर दीन्हों मोहिं विरह कसाई है ।
सीख सिखवत बौरी सखियाँ सयानी भई,
बौरे भये बैद कछु दीन्हीं न दवाई है ।
बैरी भरी मालिन चली है भरि झोरी कहा,
बौरी करिबे को औरों बौर यहाँ लाई है ।।

Leave a Reply