बौड़म-बांग्ला कविता(अनुवाद हिन्दी में) -शंख घोष -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankha Ghosh

बौड़म-बांग्ला कविता(अनुवाद हिन्दी में) -शंख घोष -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankha Ghosh

 

ख़ूब भले बचे अपन
क़िस्मत ही अच्छी है,
धोखे की दुनिया में
आँखों पे पट्टी है।

किसी को छू लेता हूँ,
पूछता हूँ यारा,
“गली-गली फिरता है
क्यों मारा-मारा?

इससे भला था, सब
परपंच भुलाकर
एक बार बेपरवा’
हँसता ठठाकर।“

सुनकर वे कहते हैं
“कौन मनहूस है?
छुपा-छुपा फिरता है
निश्चय जासूस है।“

हद्द ! बोले कल के
वो छोकरे चिल्लाकर
‘बौड़म’, हमाई ओर
उँगली उठाकर।

बस, तब से बौड़म बन
श्याम बाज़ार के
आसपास रहता हूँ
वही रूप धार के।

 

Leave a Reply