बे-सबब क्यूँ तबाह होता है -ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

बे-सबब क्यूँ तबाह होता है -ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

बे-सबब क्यूँ तबाह होता है
फ़िक्र-ए-फ़र्दा गुनाह होता है

तुझ को क्या दूसरों के ऐबों से
क्यूँ अबस रू-सियाह होता है

मुझ को तन्हा न छोड़ कर जाओ
ये ख़ला बे-पनाह होता है

ज़क उसी से बहुत पहुँचती है
जो मिरा ख़ैर-ख़्वाह होता है

उस घड़ी उस से माँग लो सब कुछ
जब ‘अदम’ बादशाह होता है

Leave a Reply