बुद्ध के रंग में रंगें हम-कविताएँ-गोलेन्द्र पटेल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Golendra Patel

बुद्ध के रंग में रंगें हम-कविताएँ-गोलेन्द्र पटेल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Golendra Patel

 

अकुशल द्वेष ईर्ष्या घृणा गर्व है गोली
त्याग चतुष्टय-दोष, बोलो मीठी बोली
बुद्ध वचन से भरे, तुम्हारी ज्ञान-झोली
संग रंगमंच पर झूमी-झूमी नाचे टोली
भक्तिरस में भींगी, करें हँसी-ठिठोली
उमंग-तरंग और रंगों का पर्व है होली।

 

Leave a Reply