बुत-ए-काफ़िर जो तू मुझ से ख़फ़ा है-ग़ज़लें-भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra 

बुत-ए-काफ़िर जो तू मुझ से ख़फ़ा है-ग़ज़लें-भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra

बुत-ए-काफ़िर जो तू मुझ से ख़फ़ा है
नहीं कुछ ख़ौफ़ मेरा भी ख़ुदा है

ये दर-पर्दा सितारों की सदा है
गली-कूचा में गर कहिए बजा है

रक़ीबों में वो होंगे सुर्ख़-रू आज
हमारे क़त्ल का बेड़ा लिया है

यही है तार उस मुतरिब का हर रोज़
नया इक राग ला कर छेड़ता है

शुनीदा कै बवद मानिंद-ए-दीद
तुझे देखा है हूरों को सुना है

पहुँचता हूँ जो मैं हर रोज़ जा कर
तो कहते हैं ग़ज़ब तू भी ‘रसा’ है

This Post Has One Comment

Leave a Reply