बिरह ब्योग रोगु दुखति हुइ बिरहनी-कबित्त-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

बिरह ब्योग रोगु दुखति हुइ बिरहनी-कबित्त-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

बिरह ब्योग रोगु दुखति हुइ बिरहनी
कहत सन्देस पथिकन पै उसास ते ।
देखह त्रिगद जोनि प्रेम कै परेवा
पर कर नारि देखि टटत अकास ते ।
तुम तो चतुरदस बिद्या के निधान प्रिअ
त्रिय न छडावहु बिरह रिप रिप त्रास ते ।
चरन बिमुख दुख तारिका चमतकार
हेरत हिराह रवि दरस प्रगास ते ॥२०७॥

Leave a Reply