बिबिधि बिरख बली फल फूल साखा-कबित्त-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

बिबिधि बिरख बली फल फूल साखा-कबित्त-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

बिबिधि बिरख बली फल फूल साखा
रचन चरित्र चित्र अनिक प्रकार है।
बरन बरन फल बहु बिधि स्वादरस
बरन बरन फूल बासना बिथार है।
बरन बरन मूल बरन बरन साखा
बरन बरन पत सुगन अचार है।
बिबिधि बनासपति अंतरि अगनि जैसे
सकल संसार बिखै एकै एकंकार है ॥४९॥

Leave a Reply