बाबा जी दी प्राहुणचारी-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

बाबा जी दी प्राहुणचारी-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

#1.

उठ नी सखी,
चल वेखन चलीए,
अजब मूरतां आईआं नी ।

थां-थां छत्तर लग्गे हन भारे,
इक तों इक सवाईआं नी ।

अजब महक है फैली सारे,
वज्जन सहज वधाईआं नी ।

कंवलां नूं हन भौरे भुल्ले,
दिन्दे फिरदे धाईआं नी ।

प्रीत मदहोशी छाई सारे,
लग्गियां उच्चियां साईआं नी ।

आकाश पवित्तर धरत पवित्तर,
चीज़ां तीरथ नहाईआं नी ।

प्यार गगन है छायआ उपर,
सारियां बाबल जाईआं नी ।

#2.

पा कपड़े चल वेखन चलीए,
कौण-कौन रिख आए नी ।

शिवजी नाल गौरजां लै के,
चड़्ह कंधी उह धाए नी ।

नीझ लाय के देखो सखीओ,
विशनूं आण सहाए नी ।

कंवल नैन उह लच्छमी आई
सुहप्पण-गगन रंगाए नी ।

वीना हत्थ विच्च नारद आए,
राग रंगीन वजाए नी ।

धरू प्रहलाद आण बाबे घर,
सिफ़त सलाहां गाए नी ।

जले हरी-ए थले हरी ए,
सुहने शबद सुणाए नी ।

#3.

उट्ठ नी सखी चल्ल वेखन चलीए,
होर रंगीला आया ई ।

छाईं माईं “राम” नाम है,
“नानक” नाद वजायआ ई ।

लूंअ-लूंय हस्से रग-रग टप्पे,
होर वड्डा इक आया ई ।

नैणां झमकन तारे झमकण,
ए नैणां दी आया ई ।

बंसी बीन वजाए मिट्ठी,
“नानक” “नानक” गायआ ई ।

आखे सभ तों वड्डा बाबा
दुनियां तारन आया ई ।

बुद्ध आए ते जीना आए,
धन्न गुरू नानक गायआ ई ।

ईसा नाल मुहंमद आए,
“नानक धन्न” अलायआ ई ।

#4.

वेहड़ा बाबे जी दा भारी,
मिटदी सभ असनाई है ।

भूत भविक्ख ते वरतमान दी,
आई सभ लोकाई है ।

रूप ना रेख ना रंग ना सूरत,
इको प्यार इलाही है ।

इक सुर हो जद मिलदे सारे,
नैणां छहबर लाई है ।

रसिक चुप्प दी मिट्ठ विच्च बोले,
धरमसाल सभ भाई है ।

सभ बाबे दे बाबा सभ दा,
इहो जोत जगाई है ।

सभ ने रल के गीत गाव्या,
अनहत धुनी उठाई है ।

“सभ तों वड्डा सतिगुर नानक,”
नानक धन्न कमाई है ।

(ख़ालसा समाचार कत्तक दी २५ संमत ना: शा: ४४८, नवम्बर ९, सन्न १९१६ ई:)

 

Leave a Reply