बादशाह ओ औलिया को ढूंढता हूँ मैं-तारिक़ अज़ीम तनहा-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tariq Azeem Tanha

बादशाह ओ औलिया को ढूंढता हूँ मैं-तारिक़ अज़ीम तनहा-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tariq Azeem Tanha

बादशाह ओ औलिया को ढूंढता हूँ मैं,
हकपरस्त ए हुक़ुमरां को ढूंढता हूँ मैं!

दयारे-नसीम-ऐ-कानून हर सू चले,
ऐसी ही चमन ए फ़िज़ा ढूंढता हूँ मैं!

वकारे-सू-ए-दारे-अहले-सिपाही,
औरंगज़ेब अबके ऐसा ढूंढता हूँ मैं!

जबीं सज्दे में लब पे नामें-अल्लाह,
खातिर में रश्क-ए-खुदा ढूंढता हूँ मैं!

जो हो खिलाफ इस तीन तलाक से,
दौर-ए-गर्दिश-ए-बुतां ढूंढता हूँ मैं!

दिल मशगूले-मामूर होंठो पे अर्जिया,
दिले-सदा दे ऐसी दुआ ढूंढता हूँ मैं!

लेके चराग़ इन आदमियो के शहर में,
बचा है क्या कोई इंसा ढूंढता हूँ मैं!

इन लोगो के अलम ओ दुःख दर्द से,
हुक़ूमत तेरी खात्मा-फ़ना ढूंढता हूँ मैं!

भले ही मेरा मुब्तिला सब से है मगर,
फिर भी खुद को ‘तनहा’ ढूंढता हूँ मैं!

Leave a Reply