बांग्ला कविता(अनुवाद हिन्दी में) -शंख घोष -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankha Ghosh Part 11

बांग्ला कविता(अनुवाद हिन्दी में) -शंख घोष -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankha Ghosh Part 11

यौवन

दिन और रात
के बीच
परछाइयाँ
चिड़ियों के उड़ान की

याद आती हैं
यूँ भी
हमारी आख़िरी मुलाक़ातें ।

 

तुम

उड़ता हूँ
और भटकता हूँ
दिन भर पथ में ही
सुलगता हूँ

पर अच्छा नहीं लगता
जब तक
लौट कर देख न लूँ कि तुम हो,
तुम ।

 

 

Leave a Reply