बच्चे-ख़लील जिब्रान-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Khalil Gibran

बच्चे-ख़लील जिब्रान-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Khalil Gibran

#1.
तुम्हारे बच्चे, तुम्हारे बच्चे नहीं हैं
वह तो जीवन की अपनी आकांक्षा के बेटे बेटियां हैं
वह तुम्हारे द्वारा आते हैं लेकिन तुमसे नहीं,

वह तुम्हारे पास रहते हैं लेकिन तुम्हारे नहीं
तुम उनके शरीरों को घर दे सकते हो
तुम उन्हें अपना प्यार दे सकते हो लेकिन अपनी सोच नहीं
क्योंकि उनकी अपनी सोच होती है
तुम उनके शरीरों को घर दे सकते हो, आत्माओं को नहीं
क्योंकि उनकी आत्माएं आने वाले कल के घरों में रहती हैं
जहां तुम नहीं जा सकते, सपनों में भी नहीं
तुम उनके जैसा बनने की कोशिश कर सकते हो,
पर उन्हें अपने जैसा नहीं बना सकते,
क्योंकि जिन्दगी पीछे नहीं जाती,
न ही बीते कल से मिलती है

तीर चलाने वाला निशाना साधता है
तुम वह कमान हो जिससे तुम्हारे बच्चे
जीवित तीरों की तरह छूट कर निकलते हैं
तीर चलाने वाला निशाना साधता है एक असीमित राह पर
और अपनी शक्ति से तुम्हें जहां चाहे उधर मोड़ देता है
ताकि उसका तीर तेज़ी से दूर जाये
स्वयं को उस तीरन्दाज़ की मर्ज़ी पर खुशी से मुड़ने दो,
क्योंकि वह उड़ने वाले तीर से प्यार करता है
और स्थिर कमान को भी चाहता है

(‘अमर उजाला’ से)

#2.
तुम्हारे बच्चे तुम्हारे नहीं हैं
वे जिन्दगी की खुद की चाहत के बच्चे और बच्चियां हैं
वे तुम्हारे पास आये हैं पर वे तुमसे नहीं आये हैं
और हालांकि वे तुमसे आये हैं पर तुमसे बावस्ता नहीं हैं

तुम उन्हें अपना प्यार दे सकते हो पर अपने विचार नहीं.
उनके पास अपने विचार हैं.
तुम उनके शरीर को घर दे सकते हो पर उनकी आत्मा को नहीं.
उनकी आत्मा आने वाले कल के घर में घूमती है
जिसे तुम नहीं देख सकते,अपने सपनों में भी नहीं.
तुम उनके जैसा होने की कोशिश कर सकते हो,
पर उन्हें अप्ने जैसा नहीं बना सकते.
जिन्दगी पीछे नहीं जाती और न ही बीते कल में ठहरती है.

तुम एक धनुष हो जिससे तुम्हारे बच्चे जिन्दा तीर की तरह आगे जाते हैं .
धनुर्धर अनन्त के रास्ते पर लक्ष्य देखता है,
और वह तुम्हें अपनी शक्ति के साथ खेंचता है कि तीर सीधा और दूर तलक जाये.
अपने भले के लिये अपने को धनुर्धर के हाथों में सौंप दो.
वह जिस तरह खिंचते हुए तीर से प्यार करता है,
उतना ही प्यार उस धनुष से भी करता है जो स्थिर रहता है.

(अनुवाद:विनीता यशस्वी)

#3.
आपके बच्चे वास्तव में आपके बच्चे नहीं हैं
वे स्वतः प्रवाहित जीवन में पुत्र और पुत्रियाँ हैं
वे आए हैं मगर आपसे होकर नहीं
आप उन पर अपना स्नेह तो थोप सकते हैं मगर विचार नहीं
क्योंकि वे स्वयं भी विचारवान हैं, विवेकशील हैं
आप उनकी देह को कैद कर सकते हैं, मगर आत्मा को नहीं
क्योंकि उनकी आत्मा आने वाले कल में विचरती है
जहाँ तक आप नहीं पहुँच सकते, सपने में भी नहीं.

आप उन जैसा बन्ने का प्रयास तो कर सकते हैं
लेकिन उन्हें अपने जैसा नहीं बना सकते.
क्योंकि समय कभी पीछे मुड़कर नहीं देखता
न वह अतीत से रूककर दो बातें करता है.

आप वह धनुष हैं, जिस पर आपके बच्चे
तीर की भांति चढ़कर भविष्य की और जाते हैं
धनुर्धारी अनंत के पथ पर निशाना लगता है
और वह पूरी कोशिश करता है कि उसका तीर तेज़ी से
दूर और दूर और दूर तक जाये.

धनुर्धारी के हाथों में कसे हुए अपने धनुष को
खुशियों के लिए कसा रहने दो
उस समय भी जब वह तीर को उड़ते देख प्रसन्न हो .
क्योंकि वह उस धनुष को भी उतना ही प्यार करता है
जो हिले डुले बगैर उसके पास रहता है

(अनुवाद: डॉ. पुनीत बिसारिया)

Leave a Reply