फिर हरीफ़े-बहार हो बैठे-नक़्शे फ़रियादी-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

फिर हरीफ़े-बहार हो बैठे-नक़्शे फ़रियादी-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

फिर हरीफ़े-बहार हो बैठे
जाने किस-किस को आज रो बैठे

थी मगर इतनी रायगाँ भी न थी
आज कुछ ज़िन्दगी से खो बैठे

तेरे दर तक पहुँच के लौट आए
इ’श्क़ की आबरू डुबो बैठे

सारी दुनिया से दूर हो जाए
जो ज़रा तेरे पास हो बैठे

न गई तेरी बे-रुख़ी न गई
हम तिरी आरज़ू भी खो बैठे

फ़ैज़ होता रहे जो होना है
शे’र लिखते रहा करो बैठे

 

Leave a Reply