प्रेम वाटिका-(दोहे)रसखान -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Raskhan Part 2

प्रेम वाटिका-(दोहे)रसखान -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Raskhan Part 2

सिर काटो छेदो हियो, टूक टूक हरि देहु।
पै याके बदले बिहँसि, वाह वाह ही लेहु।।32।।

अकथ कहानी प्रेम की, जानत लैली खूब।
दो तनहूँ जहँ एक ये, मन मिलाइ महबूब।।33।।

दो मन इक होते सुन्‍यौ, पै वह प्रेम न आहि।
हौइ जबै द्वै तनहुँ इक, सोई प्रेम कहाहि।।34।।

याही तें सब सुक्ति तें, लही बड़ाई प्रेम।
प्रेम भए नसि जाहिं सब, बँधें जगत के नेम।।35।।

हरि के सब आधीन पै, हरी प्रेम-आधीन।
याही तें हरि आपुहीं, याही बड़प्‍पन दीन।।36।।

वेद मूल सब धर्म यह, कहैं सबै श्रुतिसार।
परम धर्म है ताहु तें, प्रेम एक अनिवार।।37।।

जदपि जसोदानंद अरु, ग्‍वाल बाल सब धन्‍य।
पे या जग मैं प्रेम कौं, गोपी भईं अनन्‍य।।38।।

वा रस की कछु माधुरी, ऊधो लही सराहि।
पावै बहुरि मिठास अस, अब दूजो को आहि।।39।।

श्रवन कीरतन दरसनहिं जो उपजत सोई प्रेम।
शुद्धाशुद्ध विभेद ते, द्वैविध ताके नेम।।40।।

स्‍वारथमूल अशुद्ध त्‍यों, शुद्ध स्‍वभावनुकूल।
नारदादि प्रस्‍तार करि, कियौ जाहि को तूल।।41।।

रसमय स्‍वाभाविक बिना, स्‍वारथ अचल महान।
सदा एकरस शुद्ध सोइ, प्रेम अहै रसखान।।42।।

जातें उपजत प्रेम सोइ, बीज कहावत प्रेम।
जामें उपजत प्रेम सोइ, क्षेत्र कहावत प्रेम।।43।।

जातें पनपत बढ़त अरु, फूलत फलत महान।
सो सब प्रेमहिं प्रेम यह, कहत रसिक रसखान।।44।।

वही बीज अंकुर वही, सेक वही आधार।
डाल पात फल फूल सब, वही प्रेम सुखसार।।45।।

जो जातें जामैं बहुरि, जा हित कहियत बेस।
सो सब प्रेमहिं प्रेम है, जग रसखान असेस।।46।।

कारज कारन रूप यह, प्रेम अहै रसखान।
कर्ता कर्म क्रिया करन, आपहि प्रेम बखान।।47।।

देखि गदर हित-साहिबी, दिल्‍ली नगर मसान।
छिनहि बादसा-बंस की, ठसक छोरि रसखान।।48।।

प्रेम-निकेतन श्रीबनहि, आइ गोबर्धन धाम।
लह्यौ सरन चित चाहिकै, जुगल सरूप ललाम।।49।।

तोरि मानिनी तें हियो, फोरि मोहिनी-मान।
प्रेम देव की छविहि लखि, भए मियाँ रसखान।।50।।

बिधु सागर रस इंदु सुभ, बरस सरस रसखानि।
प्रेमबाटिका रचि रुचिर, चिर हिय हरख बखान।।51।।

अरपी श्री हरिचरन जुग पदुमपराग निहार।
बिचरहिं या मैं रसिकबर, मधुकर निकर अपार।।52।।

शेष पूरन राधामाधव सखिन संग बिहरत कुंज लुटीर।
रसिकराज रसखानि जहँ कूजत कोइल कीर।।53।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply