प्रेम रंग समसरि पुजिसि न कोऊ रंग-कबित्त-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

प्रेम रंग समसरि पुजिसि न कोऊ रंग-कबित्त-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

प्रेम रंग समसरि पुजिसि न कोऊ रंग
प्रेम रंग पुजिसि न अनरस समानि कै ।
प्रेम गंध पुजिसि न आन कोऊऐ सुगंध
प्रेम प्रभुता पुजसि प्रभुता न आन कै ।
प्रेम तोलु तुलि न पुजसि नही बोल कतुलाधार
मोल प्रेम पुजसि न सरब निधान कै ।
एक बोल प्रेम कै पुजसि नही बोल कोऊऐ
ग्यान उनमान अस थकत कोटानि कै ॥१७०॥

This Post Has One Comment

Leave a Reply