प्रेम, प्राण, गीत, गन्ध, आभा और पुलक में-गीतांजलि-रवीन्द्रनाथ ठाकुर -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rabindranath Tagore Gitanjali (प्रेमे प्राणे गाने गन्धे आलोके पुलके…)

प्रेम, प्राण, गीत, गन्ध, आभा और पुलक में-गीतांजलि-रवीन्द्रनाथ ठाकुर -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rabindranath Tagore Gitanjali
(प्रेमे प्राणे गाने गन्धे आलोके पुलके…)

प्रेम, प्राण, गीत, गन्ध, आभा और पुलक में,
आप्लावित कर अखिल गगन को, निखिल भुवन को,
अमल अमृत झर रहा तुम्हारा अविरल है।

दिशा-दिशा में आज टूटकर बन्धन सारा-
मूर्तिमान हो रहा जाग आनंद विमल है;
सुधा-सिक्त हो उठा आज यह जीवन है।

शुभ्र चेतना मेरी सरसाती मंगल-रस,
हुई कमल-सी विकसित है आनन्द-मग्न हो;
अपना सारा मधु धरकर तब चरणों पर।

जाग उठी नीरव आभा में हृदय-प्रान्त में,
उचित उदार उषा की अरुणिम कान्ति रुचिर है,
अलस नयन-आवरण दूर हो गया शीघ्र है।।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply