प्रियतम, आज बहुत दिन बाद-एकायन-चिन्ता अज्ञेय-सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Sachchidananda Hirananda Vatsyayan Agyeya,

प्रियतम, आज बहुत दिन बाद-एकायन-चिन्ता अज्ञेय-सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Sachchidananda Hirananda Vatsyayan Agyeya,

प्रियतम, आज बहुत दिन बाद!
आँखों में आँसू बन चमकी तेरी कसक भरी-सी याद!

आज सुना है युगों-युगों पर तेरे स्वर का मीठा मर्मर-
जिसे डुबाये था अब तक जग का वह निष्फल रौरव-नाद!
प्रियतम, आज बहुत दिन बाद!

छिन्न हुआ अँधियारा अम्बर, चला लोचनों से बह झर-झर
विपुल राशि में संचित था जो मेरे प्राणों में अवसाद!
प्रियतम, आज बहुत दिन बाद!

रो लेने दो मुझ को जी भर-यही आज सुख सब से बढ़ कर!
मुझे न रोको आज कि मुझ पर छाया है उत्कट उन्माद!
प्रियतम, आज बहुत दिन बाद!

1936

Leave a Reply