प्रथमैं सास न मास सन अंध धुन्द कछ खबर न पाई ॥-बाबे नानक देव जी दी वार-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji 

प्रथमैं सास न मास सन अंध धुन्द कछ खबर न पाई ॥-बाबे नानक देव जी दी वार-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

प्रथमैं सास न मास सन अंध धुन्द कछ खबर न पाई ॥
रक्त बिन्द की देह रच पांच तत की जड़त जड़ाई ॥
पउन पानी बैसंतरो चौथी धरती संग मिलाई ॥
पंच विच आकास कर करता छटम अदिश समाई ॥
पंच तत्त पचीस गुन शत्र मित्र मिल देह बणाई ॥
खानी बानी चलित कर आवागउन चरित दिखाई ॥
चौरासीह लक्ख जोन उपाई ॥2॥

Leave a Reply