पैसा-पैसे ही का अमीर के दिल में खयाल है-शायरी(कविता) नज़्में -नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi 

पैसा-पैसे ही का अमीर के दिल में खयाल है-शायरी(कविता) नज़्में -नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

पैसे ही का अमीर के दिल में खयाल है
पैसे ही का फ़कीर भी करता सवाल है

पैसा ही फौज पैसा ही जाहो जलाल है
पैसे ही का तमाम ये तंगो दवाल है

पैसा ही रंग रूप है पैसा ही माल है
पैसा न हो तो आदमी चर्खे की माल है

पैसा जो होवे पास तो कुन्दन के हैं डले
पैसे बगैर मिट्टी के उस से डले भले

पैसे से चुन्नी लाख की इक लाल दे के ले
पैसा न हो तो कौड़ी को मोती कोई न ले

पैसा ही रंग रूप है पैसा ही माल है
पैसा न हो तो आदमी चर्खे की माल है

पैसा जो हो तो देव की गर्दन को बाँध लाए
पैसा न हो तो मकड़ी के जाले से खौफ खाए

पैसे से लाला भैया जी और चौधरी कहाए
बिन पैसे साहूकार भी इक चोर-सा दिखाए

पसा ही रंग रूप है पैसा ही माल है
पैसा न हो तो आदमी चर्खे की माल है

पैसा ही जस दिलाता है इन्साँ के हात को
पैसा ही जेब देता है ब्याह और बरात को

भाई सगा भी आन के पूछे न बात को
बिन पैसे यारो दूल्हा बने आधी रात को

पैसा ही रंग रूप है पैसा ही माल है
पैसा न हो तो आदमी चर्खे की माल है

पैसे ने जिस मकाँ में बिछाया है अपना जाल
फंसते हैं उस मकां में फरिश्तों के पर ओ बाल

पैसे के आगे क्या है ये महबूब खुश जमाल
पैसा परी को लाए परिस्तान से निकाल

पैसा ही रंग रूप है पैसा ही माल है
पैसा न हो तो आदमी चर्खे की माल है

दुनिया में दीनदार कहाना भी नाम है
पैसा जहाँ के बीच वो कायम मुकाम है

पैसा ही जिस्मोजान है पैसा ही काम है
पैसे ही का नजीर ये आदम गुलाम है

पैसा ही रंग रूप है पैसा ही माल है
पैसा न हो तो आदमी चर्खे की माल है

Leave a Reply