पुछे पीर तकरार कर एह फकीर वडा आताई ॥-बाबे नानक देव जी दी वार-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji 

पुछे पीर तकरार कर एह फकीर वडा आताई ॥-बाबे नानक देव जी दी वार-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

पुछे पीर तकरार कर एह फकीर वडा आताई ॥
एथे विच बगदाद दे वडी करामात दिखलाई ॥
पातालां आकाश लख ओड़क भाली खबर सु साई ॥
फेर दुरायन दसतगीर असी भि वेखां जो तुह पाई ॥
नाल लीता बेटा पीर दा अखीं मीट ग्या हवाई ॥
लख अकाश पताल लख अख फुरक विच सभ दिखलाई ॥
भर कचकौल प्रशाद दा धुरों पतालों लई कड़ाई ॥
ज़ाहर कला न छपै छपाई ॥36॥

Leave a Reply