पिता।-राही चल : अनिल मिश्र प्रहरी (Anil Mishra Prahari)| Hindi Poem | Hindi Kavita,

पिता।-राही चल : अनिल मिश्र प्रहरी (Anil Mishra Prahari)| Hindi Poem | Hindi Kavita,

पिता से भरा पूरा घर है
नहीं तो दूभर गुजरबसर है।

वे हैं तो सभी अपने लगते
वरना अजनबी पूरा शहर है।

परिवार में सुख -चैन की बंसी
सब उनकी मिहनत का असर है।

जिसने कभी रुकके देखा ही नहीं
कि सुबह- शाम या तप्त दोपहर है।

अपने हर शौक को सहर्ष छोड़ा
ऐसी कुर्बानी भी मिलती किधर है।

पिता से घर-गृहस्थी सब आबाद
नहीं तो दुनिया भी ढाती कहर है।

पिता के बिना जीना आसान नहीं
उनसे जुदाई भी एक जहर है।

 

Leave a Reply