पहचान-असमिया कविता-नीलमणि फूकन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nilmani Phookan(अनुवाद- दिनकर कुमार)

पहचान-असमिया कविता-नीलमणि फूकन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nilmani Phookan(अनुवाद- दिनकर कुमार)

 

नेत्रहीन वृद्ध ने
अपरान्ह के आकाश में

एक नीली चिड़िया को उड़ाकर
भर्राई हुई आवाज़ में
हमसे कहा था —

’लोगों से कहना —
उनकी दुनिया में
कोई किसी को
कभी
पहचान नहीं पाया ।’

 

Leave a Reply