पत्थर-बांग्ला कविता(अनुवाद हिन्दी में) -शंख घोष -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankha Ghosh 

पत्थर-बांग्ला कविता(अनुवाद हिन्दी में) -शंख घोष -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankha Ghosh

 

पत्थर, धरा है खुद मैंने यह छाती पर रोज़-रोज़
और अब उतार नहीं पाता ।

धिक् ! मेरी ग़लतियों, परे जाओ, उतरो
मैं फिर से शुरू करूँ,
फिर से खड़ा हूँ, जैसे खड़ा होता है आदमी ।
तैरते हुए दिन और हाथों के कोटर में लिपटी हैं रातें
क्योंकर उम्मीद है, समझ लेंगे दूसरे?
पूरी देह जुड़कर भी जगा सकी नहीं है कोई नवीनता ।

जन्महीन महाशून्य घेरे में,
बरसों तक पल-प्रतिपल
किसकी की पूजा?

अलग रहो, अलग रहो, अलग रहो, अलग रहो ।

चुपके-से कहता हूँ आज, तू उतर जा, उतर जा
पत्थर ! धरा था तुझे छाती पर,
मानकर देवता
अब मैं गया हूँ तुझे ठीक से पहचान !

 

Leave a Reply