पंज प्याले पंज पीर छटम पीर बैठा गुर भारी ॥-बाबे नानक देव जी दी वार-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji 

पंज प्याले पंज पीर छटम पीर बैठा गुर भारी ॥-बाबे नानक देव जी दी वार-भाई गुरदास जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Bhai Gurdas Ji

पंज प्याले पंज पीर छटम पीर बैठा गुर भारी ॥
अरजन कायआं पलट कै मूरत हरिगोबिन्द सवारी ॥
चली पीड़्ही सोढियां रूप दिखावन वारो वारी ॥
दल भंजन गुर सूरमां वड जोधा बहु परउपकारी ॥
पुछन्न सिक्ख अरदास कर छे महलां तक दरस नेहारी ॥
अगम अगोचर सतिगुरू बोले मुख ते सुणहु संसारी ॥
कलिजुग पीड़्ही सोढियां नेहचल नीन उसार खल्हारी ॥
जुग जुग सतिगुर धरे अवतारी ॥48॥

Leave a Reply