न किसी पे ज़ख़्म अयाँ कोई-कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

न किसी पे ज़ख़्म अयाँ कोई-कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

न किसी पे ज़ख़म अयां कोई, न किसी को फ़िकर रफ़ू की है
न करम है हम पे हबीब का, न निगाह हम पे अदू की है

सफ़े-ज़ाहदां है तो बेयकीं, सफ़े-मयकशां है तो बेतलब
न वो सुबह विरदो-वज़ू की है, न वो शाम जामो-सुबू की है

न ये ग़म नया न सितम नया कि तिरी जफ़ा का गिला करें
ये नज़र थी पहले भी मुज़तरिब, ये कसक तो दिल में कभू की है

कफ़े-बाग़बां पे बहारे-गुल का है करज़ पहले से बेशतर
कि हरेक फूल के पैरहन में नमूद मेरे लहू की है

नहीं ख़ौफ़े-रोज़े-सियह हमें कि है ‘फ़ैज़’ ज़रफ़े-निगाह में
अभी गोशागीर वो इक किरन जो लगन उस आईनारू की है

Leave a Reply