नूर नानक-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

नूर नानक-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

नहीं विच कैद मन्दिर, मसजिद, धरमसाला,
हर मकान अन्दर लामकान समझो ।
रूप रंग उहदा वरन चेहन कोई ना
रंगां सार्यां विच वरतमान समझो ।
नाता, दोसती, साथ, शरीकता नहीं
सभ तों वक्खरा सभस दी जान समझो ।
देश, ज़ात, मज़हब, पेशा, ख़्याल कोई
हर इनसान दे ताईं इनसान समझो ।

जानो सभस विच जोत परमातमां दी
पहलां दस्स्या इहो दसतूर नानक ।
शरधा नाल पायआ सुरमा एकता दा
सभनां अक्खियां विच दिस्से नूर नानक ।

समझन वाल्यां ने कृष्ण समझ लैणा
भावें मोहन कह लो भावें शाम कह लौ ।
नीयत विच जे भाव है प्यार वाला
फ़तह, बन्दगी, नमसते, सलाम कह लौ ।
नामां सार्यां विच उहदा नाम कोई नहीं
इसे लई उहदा कोई नाम कह लौ ।
सभनां बोलियां ताईं उह जाणदा ए
भावें कहु अल्ला भावें राम कह लौ ।

ऐसे प्रेम दे रंग विच रंग्या जो
उहने समझ्या ठीक ज़रूर नानक ।
अन्दर बाहर उहनूं नज़रीं प्या आवे
नूर नूर नानक, नूर नूर नानक ।

रिच्छां बन्दरां दा पहलों हक्क हुन्दा
मिलदा रब्ब जे कर बाहर कन्दरां विच ।
पंडतां, काज़ियां, भाईआं दा मसला जे
रब्ब वट्ट्यां इट्टां ते मन्दरां विच ।
इह वी धोखा जे किते ना समझ लैणा
उह है धनियां दसां जां पन्दरां विच ।
नीवां सिर करके मारे झात जेहड़ा
उहनूं दिसेगा सार्यां अन्दरां विच ।

घड़े आपने रहन लई बुत्त उहने
ऐसे ग्यान दे नाल भरपूर नानक ।
नानक ओस विच है, उह है विच नानक
ओसे नूर तों नूर इह नूर नानक ।
आ के नज़र वी आउंदा नज़र नाहीं
किस्सा जान लौ मूसा ते तूर दा ए ।
अपने आप नूं आप ने है मिलणा
पैंडा बहुत नेड़े फिर वी दूर दा ए ।
परदा लाह के वी रेहा विच परदे
आया नूर उत्ते परदा नूर दा ए ।
जिथे मिलन सौदे केवल दिलां बदले
ओथे कंम की अकल शऊर दा ए ।

मिलीए जिनस विच सदा हम जिनस हो के
इह सिधांत जे सिरफ़ मनज़ूर नानक ।
बून्द विच सागर, सागर विच बून्दां
रल्या नूर हो के अन्दर नूर नानक ।

Leave a Reply