निसि द्यौस खरी उर माँझ अरी-कविता -घनानंद-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ghananand

निसि द्यौस खरी उर माँझ अरी-कविता -घनानंद-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ghananand

निसि द्यौस खरी उर माँझ अरी
छबि रंगभरी मुरि चाहनि की।
तकि मोरनि त्यों चख ढोरि रहैं,
ढरिगो हिय ढोरनि बाहनिकी
चट दै कटि पै बट प्रान गए
गति सों मति में अवगाहनि की।
घनआनंद जान लख्यो जब तें
जक लागियै मोहि कराहनि की

Leave a Reply