नानक दा रब्ब-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

नानक दा रब्ब-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

‘इक नाम है ख़ुदा दा,
दूजा रसूल दा ए ।
मन्ने रसूल नूं तां,
अल्ला कबूलदा ए ।’
इह भाव मियां मिट्ठे,
तेरे असूल दा ए ।
मेरा सिधांत सिद्धा,
पुज्जे अख़ीर बन्ने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

आवे ज़रूर आवे.
रसते किसे तों आवे ।
पावे ज़रूर पावे,
रसते किसे तों पावे ।
दाहवा है इक तअस्सुब,
उलटा इह राह भुलावे ।
मोमन न सभ सुजाखे,
हन्दू न सारे अन्न्हे ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

गोरा या काला सौंला,
इह रंग वन्न-सुवन्ने ।
हर रंग विच उह वस्से,
रहन्दा है फेर बन्ने ।
आपे बणाउंदा है,
आपे चाहे तां भन्ने ।
उह लभ ल्या सी वेखो,
पत्थर दे विचों धन्ने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

है पसर्या चुफ़ेरे,
उहदा पसार सारे ।
उहो है हेठ उत्ते,
अन्दर ते बाहर सारे ।
दस्सन उसे दी कुदरत,
जंगल पहाड़ सारे ।
उहदे बिनां इह जाणो,
उजड़े दुआर बन्ने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

शांती दा घर है मज़हब,
मल्लां दा नहीं अखाड़ा ।
इत्थे ना पहुंच सक्के,
दूई, दवैत साड़ा ।
हद एस दी सचाई,
सच्च एस दा है वाड़ा ।
निसचा टिका ते टिक्के,
वहदत दे पीवे छन्ने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

सभ पुतलियां नचांदा,
इक्को उह तार वाला ।
रस देंवदा है जड़्ह नूं,
इक्को बहार वाला ।
गुन ओस दे ने सारे,
ओहो भंडार वाला ।
ओसे ने रस रसायआ,
भर्या जो विच्च गन्ने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

है बीज दी ही बरकत,
पर बीज किस उगायआ ?
अकलां दे चमतकारे,
पर अकल किस सिखायआ ?
असलूं है मूल केहड़ा ?
आया, कि जो ल्याया ?
जड़्ह तों बगैर उपजण,
न डालियां न तने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

पंछी जनौर सबज़ी,
कुदरत बणाए जोड़ा ।
इक्के बिरछ दे फल ने,
मिट्ठा ते कोई कौड़ा ।
परबत है या कि तीला,
कोई नहीं बिलोड़ा ।
दरसाउंदे ने एहो,
कुदरत दे सभ इह पन्ने ।

जो इक अकाल मन्ने,
मन्ने ना मैनूं मन्ने ।

Leave a Reply