नात-कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

नात-कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

(फ़ारसी रचना)”> ऐ तू कि हसत हर दिले-महज़ूं सराए तू
आवुरदा-अम सराये दिगर अज़ बराए तू।1।

ख़्वाजा ब-तख़्ते-बन्दा-ए-तशवीशे-मुलको-माल
बर ख़ाक रशके-ख़ुसरवे-दौरां गदाए तू।2।

आं जा कसीदा-ख़्वानी-ए-लज़्ज़ाते सीमो-ज़र
ईं जा फ़कत हदीसे-निशाते-लकाए तू।3।

आतश-फ़शां ज़े कहरो-मलामत ज़बाने-शैख़
अज़ असके-तर ज़े दर्दे-ग़रीबां रिदाए तू।4।

बायद कि ज़ालिमाने-जहां-रा सदा कुनद
रोज़े-ब-सूये-अदलो-इनायत सदाए तू।5।

Leave a Reply