धूप धूपाया-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

धूप धूपाया-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

धूप धूपाया
यह दिन भाया,
जैसे हो मेरी ही काया-
कविताओं ने
जिसे बनाया,
जिसको लय से गाया!

शाम हुए भी
मेरी शाम न होगी!
मेरी काया
कभी अनाम न होगी!

रचनाकाल: १७-१०-१९९१

 

Leave a Reply