दैहों दधि मधुर धरनि धरयौ छोरि खैहै-(आलम) केलि आलम (बाल लीला)-आलम शेख -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Aalam Sheikh

दैहों दधि मधुर धरनि धरयौ छोरि खैहै-(आलम) केलि आलम (बाल लीला)-आलम शेख -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Aalam Sheikh

दैहों दधि मधुर धरनि धरयौ छोरि खैहै,
धाम तें निकसि धौरी धैनु धाय खोलिहैं ।
धूरि लोटि ऐहैं लपटैहैं लटकत ऐहैं,
सुखद सुनैहैं बैनु बतियाँ अमोल हैं ।
‘आलम’ सुकवि मेरे ललन चलन सीखें,
बलन की बाँह ब्रज गलिनि में डोलिहैं ।
सुदिन सुदिन दिन ता दिन गनौंगी माई,
जा दिन कन्हैया मोसों मैया कहि बोलिहैं ।।4।।

Leave a Reply