देख ले जो आलम उस के हुस्न-ए-बाला-दस्त का-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

देख ले जो आलम उस के हुस्न-ए-बाला-दस्त का-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

देख ले जो आलम उस के हुस्न-ए-बाला-दस्त का
हौसला इतना कहाँ अपनी निगाह-ए-पस्त का

नीस्त रहते हम तो ये सैरें कहाँ से देखते
ये फ़क़त एहसान है उस ज़ात-ए-पाक-ए-मस्त का

बे-सदा आ कर लगा और हो गया सीने के पार
ये ख़दंग-ए-साफ़ था किस बे-निशाँ की शस्त का

बात कुछ कहता है और निकले है मुँह से कुछ ‘नज़ीर’
ये नशा तुझ को हुआ किस की निगाह-ए-मस्त का

Leave a Reply