दुनिया रैन-बसेरौ-बरसि पिया के देस-शंकर लाल द्विवेदी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankar Lal Dwivedi

दुनिया रैन-बसेरौ-बरसि पिया के देस-शंकर लाल द्विवेदी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankar Lal Dwivedi

 

जा दिन काल करैगौ फेरौ-
कोई बस न चलैगौ तेरौ।
रे प्रानी!-
मत कर गरब घनेरौ।।

निखरै कंचन जैसी काया,
चन्दन-गंधी शीतल छाया।
ऐसे मानसरोवर वारे-
हंसा उड़ि कहुँ अनत सिधारें,
रे पंछी!-
दुनिया रैन-बसेरौ।।
रे प्रानी!-
मत कर गरब घनेरौ।।

 

Leave a Reply